Sad Love Shayari

Sad Love Shayari Is A Form Of Hindi Shayari Which Is Unhappy, Depressing And Sorrowful. Sad Love Shayari Is Liked By People Who Are Sad And Heart Broken. Writing And Reading Shayari Is A Nice Way To Express Your Sad Feelings To The Global. There Are Lots Of Famous Poets Like Rahat Indori Mirza Ghalib Allama Iqbal Who Were Known For Their Shayari, But There Are Lots Of Couplets And Poems Out There Which Are Very Good But Their Writers Are Not Mentioned. We Will Try To Upload All Of The Sad Love Shayari Whether Their Writers Are Known Or Not Known.

beshak thuda intezaar

beshak thuda intezaar

beshak thuda intezaar mila humko
par duniya ka sab se haseen yaar mila humko
na rahi tamanna kisi jannat ki
teri dosti main wo piyaar mila humko

जो दिल को अच्छा लगता है ईसी को दोस्त कहता हूँ
मुनाफिक बनके रिश्तों की सियासत में नहीं रखता

piyaar ka rishta itna gahera nahi hota
dosti ke rishty se bada koi rishta nahi hota
kaha tha is dosti ko piyaar main na badlo
kyunki piyaar main dhoke ke siwa kuch nahi milta

dosti to zindagi ka ek khoobsurat lamha hai
ye sab rishto se albela hai
jise mil jaye wo tanhai mein bhi khush hai
jise na mile wo bheed mein bhi akela hai

Dosti Shayari
vaada hai hamara

vaada hai hamara

vaada hai hamara daosti khas rahegi
yado ki jhalak dil ke pass rahegi
nahi bhulenge aapko aur aapki dosti ko
jab tak dil main dhadkan aur ye saansrahegi

अपनी दोस्ती का बस इतना सा उशुल है
जब तो काबुल है तो तेरा सब कुछ काबुल है

kewal pani se tasveer kaha banti hai
rothe khuwabon se takdeer kaha banti hai
kisi se dosti karo to sucche dil se
kyunki yahan zindagi phir kahan milti hai

में अपनी दोस्ती को सहर में रुसवा नहीं करता
मोहब्बत में भी करता हूँ मगर चर्चा नहीं करता

Dosti Shayari
dosti tera bohut

dosti tera bohut

ना मोहब्बत ना दोस्ती हमें कुछ राज़ नहीं
सब बदल जाते है हमारे दिल में जगह बनाने के बाद

dosti tera bohut sahara hai
warna is duniya mein kuon hamara hai
log marte hai maut aane par
hume to aapki dosti ne mara hai

जिस के खुवाब सजाये थे आँखों में वो मिला माहि
किस्मत का फैसला जान लिया अब हमें किसी से कोई गिला नहीं

ek shaks par lota dete hai jo zindagi apni aye
dost ab aise log kitaabon main mila karte hai
इससे पहले के बेवफा हो जाएँ
क्यू ना ए दोस्त हम जुदा हो जाएँ

aadatein bohut mukhtaleef hai hamari duniya walo se dosto
mohabbat kam karte hai lekin la jawab karte hai

मुझ को पाना है तो मुझ में उतर के देखो
यु किनारों से समुन्दर को देखा नहीं करते दोस्त
jahan ho jaise ho waise hi rehna tum tumhein pana zaruri nahi tumhara hona hi kaafi hai

Dosti Shayari
takdeer ke rang kitne

takdeer ke rang kitne

दोस्ती का तोफ़ा हर किसी को नहीं मिलता
ये वो फूल है जो हर बाघ में नहीं खिलता
इस फूल को कभी टूटने मत देना क्यू के
टूटा हुवा फूल किसी के काम नहीं आता

takdeer ke rang kitne ajeeb hai
door rahte hai phir bhi kareeb hai
har kisi ko dost milta nahi aap jaisa
mujhe aap mil gaye ye mare naseeb hai

हाथ मिला लेते है हम रखिबों से अक्सर
छु लेना किसी को दोस्ती नहीं कहते जनाब

gum na kar zindagi bohut badi hai
chahat ki mahefil tere liye sajayi hai
bus ek baar muskura kar to dekh
takdeer khud tujhe se milne aayi hai

नहीं आती खबर कोई जंग की दुह्मानो के सहर से
कहे रहे थे तुम निपट लो पहले दोस्तों से अपने

kis tarah se teri dosti ki kahani bayan karon
tone har mod pe ek naya zakham diya hai mujhe

Dosti Shayari
ye dosti cheeraagh

ye dosti cheeraagh

ye dosti cheeraagh hai jalaye rakhna
ye dosti khusbu hai mahekaye rakhna
hum rahe hamesha aapke dil mein
hamesha itni jagah apne dil mein banaye rakhna

दोस्ती में सच्चाई और दोस्ती में अच्छाई
कभी कम नहीं होते सकती
दिल तो lover तोड़ते है हम
तो सच्चे डॉट है सिर्फ दिल जोड़ते है

मिलना बिछड़ना सब किस्मत का खेल है
कभी नफरत तो कभी दिलों का मेल है
बिक जाता है हर रिश्ता इस ज़माने में
सिर्फ दोस्ती ही नहीं बिकती इस ज़माने में

tanha rehna sikh liya humne
par khus kabhi na hum rhe payenge
teri doori sahena sikh liya humne
par teri dosti ke bina ji nahi payenge

yaad itna karo ki koi hud na ho
bharosha itna karo ko ki shak na ho
intezaar aisa karo ke koi farqv na ho
dosti aise karo ke koi narfat na ho

Dosti Shayari
hamari tadap to kuch

hamari tadap to kuch

hamari tadap to kuch bhi nahi didaar yaar ke liye
suna hai uske didaar ko aayine bhi taraste hai

वो साथ थे तो एक लफ़्ज़ ना निकला लबों से
दूर क्या हुए कलम ने क़हर मचा दिया

sir jis par bhi jhuk jaye ise sir nahi kahte
har dard par jo sir jhuk jaye ise sir nahi kahte
तुझे ज़िन्दगी भर याद करने की कसम तो नहीं ली
पर एक पल के लिए तुझे भूल जाना भी मुश्किल है

ye raaz kuon jane kis ka kasoor tha
tuta wahi shahara jis par gurur tha
ise gurur hai ke wo kisi aur ka hai ab
mujhe hai naaz ke wo kabhi mera zarur tha

जाते जाते उसने हमें एक जुमला कहे कर रुला दिया
जब गम बरदास नहीं कर सकते तो मोहब्बत क्यू करते हो

HD Shayari
tere ishq mein yun

tere ishq mein yun

tere ishq mein yun nilaam ho jaun
aakhiri boli teri ho aur me tere naam ho jaun

manzil bhi ziddi hai rashte bhi ziddi hai
dekhte hai kal kiya ho hauslen bhi ziddi hai

ek nazar dekh kar sao noks nikale mujhe me
phir bhi may khush hun mujhe gaur se dekh tune

jiske lafzon me hum apna aksh milta hai
bade naseeb se aisa koi shaks milta hai

kuch kisse dil me kuch kagajun par aabad rahe
batao kaise bhulen use jo har saans me yaad rahe

aakhir Q rishtey ki galtiyan itni tang hai
shoruwaat kuon kare yahi soch kar baat band hai

HD Shayari
teri halat se lagta hai

teri halat se lagta hai

teri halat se lagta hai tera apna tha koi
itni saadgi se koi barbaad nahi karta

वो वक़्त वो लम्हे कुछ अजीब होंगे
दुनिया में हम खुश नसीब होंगे
दूर से जब इतना याद करते है आपको
क्या होगा जब आप हमारे करीब होंगे

न दिल में बसाकर भुलाया करते हैं
ना हँसकर रुलाया करते हैं
कभी महसूस कर के देख लेना
हम जैसे तोह दिल से रिश्ते निभाया करते है

परछाई आपकी हमारे दिल में है
यादे आपकी हमारी आँखों में है
कैसे भुलाये हम आपको
प्यार आपका हमारी साँसों में है

HD Shayari
har raat gujarti hai

har raat gujarti hai

aayista bolne ka andaaz tera buhut kamaal ka hai
kaan sonte nahi kuch bhi lekin dil sab kuch samjh jata hai

ये दिल न जाने क्या कर बैठा
मुझसे बिना पूछे ही फैसला कर बैठा
इस ज़मीन पर टूटा सितारा भी नहीं गिरता
और ये पागल चाँद से मोहब्बत कर बैठा

har raat gujarti hai meri taaron ke darmiyan
mein chand to nahi par tanha zarur hun

खता हो गयी तो सजा बता दो
दिल में इतना दर्द क्यों है वजह बता दो
देर हो गयी है याद करने में ज़रूर
लेकिन तुमको भुला देंगे ये ख्याल दिल से मिटा दो
mere baad meri kahani likhna
kaise huwi barbaad meri jawani likhna

इस दिल को किसी की आस रहती है
निगाहों को किसी सूरत की प्यास रहती है
तेरे बिना किसी चीज़ की कमी तो नही
पर तेरे बेगैर जिन्दगी बड़ी उदास रहती है

HD Shayari
agar apni kismat

agar apni kismat

agar apni kismat likhne ka zra sa ikhtiyaar ho mujhe
to apne naam ke saath tujhe har baar likhon

ऐसा ना हो तुझको भी दीवाना बना डाले
तन्हाई में खुद अपनी तस्वीर न देखा कर

umar bhar use chaha phir bhi wo apna na ban saka
na jane wo kuon si mohabbat thi jo hum use de na sake

किसी का कत्ल करने पर सजा-ए-मौत है लेकिन
सजा क्या हो अगर दिल कोई किसी का तोड़ दे

teethliyan rang churati hai usi kamre se
teti tasveer jahan maine chupa rakhi hai

मुहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं
मुद्दतें बीत जाती हैं किसी के इंतज़ार में
ये सिर्फ पल-दो-पल का काम नहीं

HD Shayari