Bewafa Shayari

    Bewafa Shayari Pain Heart Collection images Latest Quotes and download my own designed Love Shayari is liked by people who are sad and heart broken, Writing and Reading, Sad Bewafa Shayari for Facebook

    Bewafa Shayari
    Bewafa Shayari

    aag dil mein lagi jab wo khamosh ho gaye
    mahesoos huwa jab wo juda hu gaye
    karke wafa kuch de na sake wo
    par buhut kuch de gaye jab wo bewafa ho gaye
    रूक जाती है सारी शिकायतें इन होंठो तक आकर
    जब मासूमियत से वो कहते है अब मैंने क्या किया

    Bewafa Shayari In Hindi

    ishq ki had ki hakiqat bata ke
    muqaddar mein mere zakhmo ka jahaan basa ke
    mehroom kar gaye hamari mohabbat ko
    kiya kya gunha humne jo tumne chhod diya
    sacchi mohabbat farma ke
    मेरी आँखों में आँसू की तरह, एक बार आ जाओ
    तक़ल्लुफ़ से बनावट से अदा से चोट लगती है

    ek gajal tere liye zarur likhunga
    be-hisaab us mein tera kasoor likhunga
    toth gaye bachpan ke tere saare khilaune
    ab logo ke dilo se khelna tere dastur likhunga
    मोहब्बत की भी देखो कैसी अजब सी कहानी है
    ज़हर पीया था मीरा ने दुनिया राधा की दीवानी है

    shayari bewafa
    shayari bewafa

    ek ye bhi bharam tutamilne ko wo na aaya humse
    kiya gujri dil pe kabhi puchne na aaya humse
    pahle bhi yun usne tude hai kahi wade
    humse na bura mana na humko malaal aaya unse
    उन्हें ज़िद है कि मैं हँसते हुए रुखसत करूं उनको
    मुझे डर है तुम्हारी आँख भर आई तो क्या होगा

    Bewafa Shayari Download

    bewafa hum hi sahi khud pe bhi kuch gurur kro
    be rukhi aap ki hud se zayda to nahi
    जहाँ पर नफरतों के खुरदरे दस्तूर होते हैं
    वहाँ पर प्यार के किस्से बहुत मशहूर होते है
    ये रिश्तों के उजालों में चमकते और बुझते हैं
    कहीं ये अश्क होते हैं कहीं सिन्दूर होते हैं

    udaas kar deti hai ye har shaam mujhe
    lagta hai tu bhul raha hai dheere dheere mujhe
    अब मत खोलना, मेरी जिंदगी की पुरानी किताबों को
    जो थी वो मैं रही नहीं, जो हूँ वो किसी को पता नहीं

    wahi piyaar ki inteha likh raha tha
    bhala karte karte gujri jawani
    magar phir bhi khud ko bura likh raha tha
    mohabbat mein nafrat mili thi use
    jo har shaks ko bewafa likh raha tha
    अचानक चलते चलते पीछे मुड़ कर देखा तो
    कुछ यादें मुस्करा रही थी और कुछ रिश्ते दम तोड़ रहे

    bewafa shayari photo
    bewafa shayari photo

    ja chhod diya tujhe koi hisaab-e-ishq nahi mangte
    shikwa nahi shikayat nahi koi gussa nahi
    ja tujh se hum apni zindagi nahi mangte
    एक दिन हम भी कफ़न ओढ़ जाएँगे
    हर एक रिश्ता इस ज़मीन से तोड़े जाएँगे
    जितना जी चाहे सतालो यारो
    एक दिन रुलाते हुए सबको छोड़ जाएँगे

    Bewafa Shayari Top 10 hindi 140 words

    be-jaban badalo ko de raha hai apni jaban koi
    lagta hai aasmaan ko suna raha hai dard ki dastaan koi
    एक रोज तुमसे जरूर मिलेंगे दिल के सारे अरमान कहेंगे
    तुम हमारी साँसे बनना हम तुम्हारी जान बनेंगे

    maine dekha tha haath iska kisi aur ke haath mein
    ye khuwaab tha koi lekin dil azeeyat se mar gaya
    जख्मों को हमने खुद ही सिना सीख लिया है
    जीते है कैसे हमने जीना सीख लिया है
    अक्सर जो बहते रहते थे आंखों के रास्ते
    हमने भी उन अश्कों को पीना सीख लिया है

    bewfai shayari in hindi
    bewfai shayari in hindi

    aaj wo thak jayenge jhakam pe namak rakh rakh kar
    dard sahene ki buhut ki mili hai mujh ko ishq ke rang mein

    tum ko khabar nahi magar ek sada dil ko
    barbad kar diya tere do din ke piyar ne
    ये प्यार था,कशिश थी,या बस फरेब कोई
    किस्मत में दूरियों के भी इंतजाम थे
    अब दूर तुमसे रह के महसूस ये हुआ
    मंज़िल नहीं थे तुम भी बस इक मकाम थे

    meri mohabbat aur teri fitrat mein fark sirf itna hai
    tujhe ulfat nahi humse humein nafrat nahi tumse
    हर तरफ से कटा पड़ा हूँ मैं
    चीथड़ों में बेबस सा सिमट रखा हूँ मैं
    क्या गुनाह किया इश्क़ करके मैंने
    जो तुम्हारी दुनिया में मरा पड़ा हूँ मैं

    Bewafa Shayari In English

    kahte hai chhodne walo chhod jate hai mukam koi bhi ho
    mein kehta hun nibhane wale nibhate hai
    halat kaise bhi hun
    इश्क ऐ परवान से हमने तरासा था तुजे
    मूरत क्या बनी नजर लग गयी
    मेरे खुरदुरे से हाथो से तेरी लकीर मिट गयी
    माना तक़दीर का लिखा सच है मेरी तो कुर्बत मिट गयी

    us waqt tere dil me buhut dard uthega
    jab mujh se bichhad kar tujh ko mere hum naam milenge
    मांगी थी हमने तुमसे मोहब्बत की ज़िन्दगी
    तुमने तो ज़िन्दगी को ही मोहब्बत बना दिया

    mohabbat to buhut doot ki baat hai
    tum to meri nafrat ko tarso ge
    अगर तुम्हारी नजरें कत्ल करने में माहिर है तो
    मेरी नजरें भी धमाका करने में माहिर है

    chup chaap palat jao meri dheleez se wapas
    dastak tere haathon ki meri mera ghar na jala de

    Bewafa Shayari Images

    राज़ खुल ही जाएगा हमारी मोहब्बत का इक दिन
    वो महफ़िल में मुझको छोड़ सबको सलाम करते है

    best bewafa shayri
    best bewafa shayri

    nahi tumse koi shikayat bus itni si ilteza hai
    jo haal kar gaye ho kabhi dekhne mat aana

    ek zara si bhul huwi aur use khu baithe
    humne jise paya tha barso ibadat kar ke

    mujhe ishq ke us mukaam pe lake chhod diya tumne
    jahan zindagi to mit sakti hai magar tumhari yaad nahi
    ना जाने क्यूँ नज़र लगी ज़माने की
    अब वजह मिलती नहीं मुस्कुराने की
    तुम्हारा गुस्सा होना तो जायज़ था
    हमारी आदत छूट गयी मनाने की

    koi fark nahi padta ab tumhare door jane se
    meine apne armano ko kab ka jala dala hai
    याद करेंगे तो दिन से रात हो जायेगी
    आईने को देखिये हमसे बात हो जायेगी
    शिकवा न करिए हमसे मिलने का
    आँखे बंद कीजिये मुलाकात हो जायेगी

    mitaoge kahan tak tum meri baatein meri yaadein
    har mod par apni pare shaniyan chhod jaungi
    महसूस करने की कोशिश तो कीजिये
    दूर रहते हुए भी पास नजर आएंगे

    karoge ek din tum bhi humse milne ki aarzo
    paoge hum ko bus kabhi khyalo mein kabhi sawalo mein
    आज भी कितना नादान है दिल समझता ही नहीं
    बाद बरसों के उन्हें देखा तो दुआएँ माँग बैठा

    खुशबू बनकर तेरी साँसों में समा जायेंगे
    सुकून बनकर तेरी दिल में उतर जायेंगे

    वो मुझसे बिछड़ कर अब तक नहीं रोया
    कोई तो हमदर्द है उसका
    जिसने मेरी याद तक ना आने दी

    Dard Bhari Bewafa Shayari 

    काश वो समझते इस दिल की तड़प को
    तो हमें यूँ रुसवा ना किया जाता
    बेरुखी भी उनकी मंज़ूर थी हमें
    एक बार बस हमें समझ लिया होता

    कुछ कदम हम चले कुछ कदम तुम चले
    फर्क सिर्फ इतना रहा
    हम चले तो फाँसलेकाम होते गए
    और तुम चले तो फाँसले बढ़ते गए

    हमारे लिए उनके दिल में चाहत ना थी
    किसी ख़ुशी में कोई दावत ना थी
    हमने दिल उनके कदमों में रख दिया
    पर उन्हें ज़मीन देखने की आदत ना थी

    सिलसिले की उम्मीद थी उनसे
    वही फाँसले बढ़ाते गए
    हम तो पास आने की कोशिश में थे
    ना जाने क्यों वह हमसे दूरियाँ बढ़ाते गए

    कही मिले तो उसे यह कहना गए दिनों को भुला रहा हू
    वह अपने वादे से फिर गया है मैं अपने वादे निभा रहा हूँ

    बहुत सोचा बहुत समझा बहुत ही देर तक परखा
    कि तन्हा हो के जी लेना मोहब्बत से तो बेहतर है

    बर्बादी का दोष दुश्मनों को देती रही मैं अब तलक
    दोस्तों को भी परख लिया होता तो अच्छा होता
    यूँ तो हर मोड़ पर मिले कुछ दगाबाज लेकिन
    आस्तीन को भी झठक लिया होता तो अच्छा होता

    Also Read : Sad Love Shayari