Holi Shayari

Holi Shayari, Shayari On Holi, Happy Holi Shayari, Happy Holi Shayari In Hindi, Holi Shayari In Hindi, Hindi Holi Shayari,New Holi Shayari, Latest Holi Shayari, Romantic Holi Shayari.

holi shayari for girlfriend

Holi Shayari For Girlfriend

Falghun Ka Mahina Wo Masti Ke Geet,
Rangon Ka Mela Wo Natkhat Sa Khel,
Dil Se Nikalti Hein Ye Pyari Si Boli,
Mubarak Ho Aapko Ye Rang Bhari Holi.

Nature Ka Har Rang Aap Pe Barse,
Har Koi Aapse Holi Khelne Ko Tarse,
Rang De Aapko Mil Ke Saare Itna,
Ki Aap Woh Rang Utaarne Ko Tarse

होली के रंग बिखरेंगे,
क्योंकि पिया के संग अब हम भी तो भीगेंगे,
होली में इस बार और भी रंग होंगे,
क्योंकि मेरे पिया मेरे संग होंगे.

हवाओ के साथ अरमान भेजा है,
Network के ज़रिये पैगाम भेज है,
फुरसत मिले तो कबूल कर लेना,
हमने आपको सबसे पेहले, होली का राम-राम भेजा।

होली के इस त्यौहार को, समजो मेरे प्यार को,
यह त्यौहार है मेरे सच्चे प्यार का इजहार,
रंगों के त्यौहार में सभी रंगों की हो भरमार,
ढेर सारी खुशियो से भरा हो आपका संसार,

राधा के रंग और कनैया की पिचकारी,
प्यार के रंग से रंग दो दुनिया सारी,
ये रंग ना जाने कोई मजहब ना बोली,
मुबारक हो आपको खुशियो भरी होली.

romantic holi shayari

Romantic Holi Shayari

मथुरा की खुशबु, गोकुल का हर,
वृंदावन की सुगंध, बरसाने की फुहार,
राधा की उम्मीद, कान्हा का प्यार,
मुबारक हो आपको होली का त्यौहार.

रंगों से भरा रहे जीवन तुम्हारा,
खुशियाँ बरसे तुम्हारे आँगन,
इन्द्रघनुष सी खुशियाँ आये,
आओ मिलकर होली मनाये।

वसंत ऋतु की बहार,
चली पिचकारी उड़ा है गुलाल,
रंग बरसे नीले हरे लाल,
मुबारक हो आपको होली का त्यौहार.

top 20 holi shayari in hindi

Top 20 Holi Shayari In Hindi

महोब्बत के रंग तुम पर बरस देंगे आज,
अपने प्यार की बौछार से तुम्हें भीगा देंगे आज,
तुम पे बस निशान हमारे ही दिखेंगे,
कुछ इस तरह रंग तुम्हे लगा देंगे आज.

भीगा के तुजे पानी में,
तेरे साथ भीग जाना है,
हो कर रंगों से रंगीन आज,
अपने गालो से रंग तेरे गालो पे लगाना है.

आ तुजे भीगा दे ज़रा,
तुजे प्यार के रंग लगा दे जरा,
करीब आये तेरे रंग लगाने,
और किसी बहाने से सीने से लगा ले जरा.

भर लू तुजे बाहोँ में,
तुज पर चढ़ा रंग खुद पे चढ़ा दू,
हो के तेरी आज में सनम,
रंगों की तरहा अपनी दुनिया को रंगीन बना लू.

तेरे होंठो को अपने होंठो से लगा लू,
लगा है जो तुज पर रंग खुद पे लगा लू,
रंगों की तरह रंगीन कर दो समां,
ले लू तुजे बाँहों में फिर अपना बना लू.

घबराईए मत, बारिश का मौसम शुरू नहीं हुआ है,
यह तो इंद्रदेव अपनी पिचकारी चेक कर रहे थे.