agar apni kismat

agar apni kismat

agar apni kismat likhne ka zra sa ikhtiyaar ho mujhe
to apne naam ke saath tujhe har baar likhon

ऐसा ना हो तुझको भी दीवाना बना डाले
तन्हाई में खुद अपनी तस्वीर न देखा कर

umar bhar use chaha phir bhi wo apna na ban saka
na jane wo kuon si mohabbat thi jo hum use de na sake

किसी का कत्ल करने पर सजा-ए-मौत है लेकिन
सजा क्या हो अगर दिल कोई किसी का तोड़ दे

teethliyan rang churati hai usi kamre se
teti tasveer jahan maine chupa rakhi hai

मुहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं
मुद्दतें बीत जाती हैं किसी के इंतज़ार में
ये सिर्फ पल-दो-पल का काम नहीं

HD Shayari