Hindi Attitude Shayari

apni-mahfil-mein

ऐसा कोई सहर नहीं जहाँ अपनी चली नही
ऐसी कोई गली नहीं जहाँ अपनी चली नहीं

to beshak apni mahfil mein mujhe badnaam karti hai
lekin tujhe andaza bhi nahi ki wo log bhi mere pair chute hai
jinhe to slaam karti hai

tamaam zakhmo ke saath is liye ji raha hun
ki ek din to wo milega jo marhum lagana janta ho

जितना रूठना है रूठ ले पगली जिस दिन हम रूठ गये ना
उस दिन से तू रूठना ही छोड़ देगी

अपनी औकात देख कर लाइन मारा कर पगली
जितना तेरा अकेले का वजन है
उससे कही जायदा तो मेरे कपडे का वजन है

Attitude Shayari