Best Aashiqui Shayari

best aashiqui shayari

ग़ज़ल भी मेरी है पेशकश भी मेरी है मगर
लफ्ज़ो में छुप के जो बैठी है वो बात तेरी है

. न आँखों से छलकते हैं, न कागज पर उतरते हैं
कुछ दर्द ऐसे भी होते हैं जो बस भीतर ही पलते हैं

नींद को आज भी शिकवा है मेरी आँखों से
मैंने आने न दिया उसको कभी तेरी याद से पहले

नज़र अंदाज़ करने की वज़ह क्या है बता भी दो
मैं वही हूँ जिसे तुम दुनिया से अलग बताती थी

Aashiqui Shayari