bhul gaye ho

bhul gaye ho

तेरी सुनहरी यादें धुप की तरह खिल उठी है
मेरे दिल के शहर में परछाई सिर्फ़ तेरी ही तेरी है

bhul gaye ho to bata do mujhko
mujhe mein marne ki himmat aa gayi hai

ek ye khuwahish hai ke koi jhakham na dekh le dil ka
ek ye hasrat hai ke koi dekhne wala hota

तेरे दिल तक पहुंचें मेरे लिखें हुए हर लफ्ज
बस इसी मकसद से मेरे हाथ कलम पकड़ते है

aaj phir darwaje par dastakhat huwi hai yaaron
agar ishq ho to kahna khuda ke liye maaf kre

खुश तो वो रहते है जो जिस्मों से मोहब्बत करते है
रूह से मोहब्बत करने वालों को अक्सर तड़पते ही देखा है

humne tumko paruya hai khud mein ek tassbi ki tarah
yaad rakhna tute hum to bikhar tum bhi jaoge

दर्द लेकर उफ़ भी ना करे ये दस्तूर है
चल ए ईश्क़ हमे तेरी ये शर्त भी मंजूर है

Heart Touching Shayari