mein hun aur saath

mein hun aur saath

mein hun aur saath teri judai ka gham hai
ab ye gham hi mere zakhmo ka marham hai
मोहब्बत तेरी सूरत से नही तेरे किरदार से है
शौक-ऐ-हूस्न होता तो बाजार चले जाते

tum pyar se ruthe rehna manate rahenge hum
zindagi bhar isi tarah tumhe chahte rahenge hum
मेरा कत्ल करने की उसकी साजीश तो देखो
करीब से गुज़री तो चेहरे से पर्दा हटा लिया

kitne lafzon mein zindagi ko bayan karu
chalo tumhara naam lekar ye kissa tamaam karo
गम की परछाईयाँ यार की रुसवाईयाँ,
वाह रे मुहोब्बत तेरे ही दर्द और तेरी ही दवाईयां

teri yaadon se mein apni subha shaam karta hun
jo bhi likhta hun sabhi tere naam likhta hun
इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ऐ बेखबर
शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं

I Love You Shayari