meri dayri se shayri

meri dayri se shayri

ye jo dobi hai meri aankhein ashkon ke dariya mein
kiya tha bharosha kisi bewafa pr uski saza hai

पूछा हाल शहर का, तो सर झुका के बोले.
लोग तो ज़िन्दा हैं, ज़मीरों का पता नहीं

mohabbat nahi thi to bata diya hota
teri ek chup ne meri zindagi tabha kardi
यूँ तो शिकायते आप से सैंकड़ों हैं मगर
आप एक मुस्कान ही काफी है मनाने के लिये

hum ko adab mohabbat nahi aate saheb
humein bus toot ke aata hai mohabbat karna

कब तक तेरे फरेब को हादसे का नाम दूँ
ऐ इश्क तूने तो मेरा तमाशा बना दिया

kitini acchi lagti hai kisi se mohabbat ki ibteda
dard to tab hota hai jab koi apna bana kar chhod de

टूटे हुए सपनो और छुटे हुए अपनों ने मार दिया
वरना ख़ुशी खुद हमसे मुस्कुराना सिखने आया करती थी.

Meri Diary Sad Shayari