Emotional Shayari

meri khamoshi

meri khamoshi ke raaz muhe khud maloom nahi
na jane Q ye log mujhe magroor kehte hai

ये लाली ये काजल ये जुल्फें भी खुली खुली
तुम यूँ ही जान मांग लेती, इतना इंतजाम क्यूँ किया

jo dekh nahi sakte hai wo bol rahe hai
khamosh hoon main Q ke main sab dekh raha hoon

सुना है तुम ले लेते हो हर बात का बदला
आजमाएंगे कभी तुम्हारे लबो को चूम कर

hooton ki mushkurahat ko zindagi na samajh
dil main utar ke dekh kitne toote huwe hai hum

लाजिमी नहीं की आपको आँखों से ही देखूं
आपको सोचना आपके दीदार से कम नहीं

Emotional Shayari