meri zindagi mein

meri zindagi meinjitne

meri zindagi mein jitne hai gum
wo teri judai ke gham se hai kam
तान्हायिया कुछ इस तरह से डसने लगी
गलियाँ भी मेरे हाल में अब हसने लगी

kabhi bewafa hurf banke kitab mein aa gaya
kabhi nazrein utha ke dekh to aftab mein aa gaya
करें किसका एतबार यहाँ सब अदाकार ही तो हैं
और गिला भी किससे करें सब अपने यार ही तो है

har do kadam pe yaar girte hai ladkhada ke
wo log jo nashe mein chalte hai sar utha ke
जिसका ये ऐलान है कि वो मज़े में है
या तो वो फ़कीर है या फिर नशे में है

I Love You Shayari