Gum Ki Shayari

mujhe aksar apno

mujhe aksar apno se chahat ka shikwa raheta hai
Q k apno ne kabhi nahi chaha mujhe apno ki tarah
मै कोई छोटी सी कहानी नहीं था
बस पन्ने ही जल्दी पलट दिए तुमने

kasam lelo tumhare baad kisi ka khuwaab dekha ho
kisi ko chaha ho kisi humne socha ho kisi ki aazro ki ho
महसूस करोगे तो हर जजबात समझ में आ जायेगा
लब्ज नहीं लहजे बयां करते है की मोहब्बत में गहरायी कितनी है

zindagi tujh ko mubarakh ho meri zindagi ke dard ka har ek pahel
kis tarah se gujari hai ye zindagi bus sirf khuda janta hai
अंदाज़ा मेरी मोहब्बत का सब लगा लेते हैं
जब तम्हारा नाम सुनकर हम मुस्कुरा देते हैं

khamosh reh kar saza kaate hai gunaho ki tarah
kasoor itna tha sirf ke be kasoo the hum
मुहब्बत करने से फुर्सत नहीं मिली यारों
वरना हम करके बताते नफरत किसे कहते हैं

jo khumaar hai tere ishq ka use maut kaise fanaa kare
wo to pahle maut se mar gaya tere ishq main jo zeba kare
क्या हसीन इत्तेफाक़ था तेरी गली में आने का
किसी काम से आये थे किसी काम के ना रहे

Gum Bhari Shayari