Shayari ki Dayri

shayari ki dayri

buhut shauk tha hamein bhi dil lagane ka
shauk shauk mein zindagi barbaad kar di humne

कुछ इस तरह खूबसूरत रिश्ते टूट जाया करते हैं
जब दिल भर जाता है तो लोग अक्सर रूठ जाया करते हैं

yun tera hur ajnabi par maherbaan hona
such kahun to buhut jaan lewa hai mere liye

रिवाज तो यही हे दुनिया का मिल जाना और बिछड जाना
तुम से ये कैसा रिशता है ना मिलते हो ना बिछडते हो

ye duniya meri wafaon ka sila de chuki mujhe
la to bhi mera khulus mere moh pe mar de

हो तुम दिलनशीं सनम,तो हम भी हसीं हैं
ज़्यादा नहीं तुमसे तो,कुछ कम भी नहीं हैं

Meri Diary Sad Shayari