takdeer ke rang kitne

takdeer ke rang kitne

दोस्ती का तोफ़ा हर किसी को नहीं मिलता
ये वो फूल है जो हर बाघ में नहीं खिलता
इस फूल को कभी टूटने मत देना क्यू के
टूटा हुवा फूल किसी के काम नहीं आता

takdeer ke rang kitne ajeeb hai
door rahte hai phir bhi kareeb hai
har kisi ko dost milta nahi aap jaisa
mujhe aap mil gaye ye mare naseeb hai

हाथ मिला लेते है हम रखिबों से अक्सर
छु लेना किसी को दोस्ती नहीं कहते जनाब

gum na kar zindagi bohut badi hai
chahat ki mahefil tere liye sajayi hai
bus ek baar muskura kar to dekh
takdeer khud tujhe se milne aayi hai

नहीं आती खबर कोई जंग की दुह्मानो के सहर से
कहे रहे थे तुम निपट लो पहले दोस्तों से अपने

kis tarah se teri dosti ki kahani bayan karon
tone har mod pe ek naya zakham diya hai mujhe

Dosti Shayari