ye dosti cheeraagh

ye dosti cheeraagh

ye dosti cheeraagh hai jalaye rakhna
ye dosti khusbu hai mahekaye rakhna
hum rahe hamesha aapke dil mein
hamesha itni jagah apne dil mein banaye rakhna

दोस्ती में सच्चाई और दोस्ती में अच्छाई
कभी कम नहीं होते सकती
दिल तो lover तोड़ते है हम
तो सच्चे डॉट है सिर्फ दिल जोड़ते है

मिलना बिछड़ना सब किस्मत का खेल है
कभी नफरत तो कभी दिलों का मेल है
बिक जाता है हर रिश्ता इस ज़माने में
सिर्फ दोस्ती ही नहीं बिकती इस ज़माने में

tanha rehna sikh liya humne
par khus kabhi na hum rhe payenge
teri doori sahena sikh liya humne
par teri dosti ke bina ji nahi payenge

yaad itna karo ki koi hud na ho
bharosha itna karo ko ki shak na ho
intezaar aisa karo ke koi farqv na ho
dosti aise karo ke koi narfat na ho

Dosti Shayari